Dard Shayari – Mere Dard Ki Kaifyat

Bahut Juda Hai Auron Se
Mere Dard Ki Kaifiyat
Zakhm Ka Koi Pata Nahi
Takleef Ki Intehaan Nahi


बहुत जुदा है औरन से
मेरे दरद की कैफ़ियत
ज़ख्म का कोई पात नहीं
तकलीफ़ की इंतेहा नहीं